सलाम बनता है

लहू से भरे अपने कदम लिए,
एक आवाज़ ने दस्तक दी है ,
खामोश खड़ी सरकर को,
एक चेतावनी सी दी है.

फुर्सत अगर मिले सरकार को,
गीत गाने से, वीडियो बनाने से,
मोटे MOU के सपने सजाने से,
तो शायद आहट इन कदमो की,
सुन भी लेंगे
कुछ देर अपनी ऊँची इमारतो को छोड,
ज़मीन से भी बाते कर लेंगे.

इतना तो कर ही सकती है बाकी आवाम ,
जिनकी मज़दूरी की रोटी खाते है,
उन्ही को बदनाम न करे,
बच्चो की सोचकर जो रात को भी चले,
कम से कम, इनको सलाम तो करे.

--

--

I write to remember. I write to remain honest. I write to leave a bread crumb trail for my daughter. I write to relax. Trying to impress my better half, I write

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Maruti Naik

Maruti Naik

180 Followers

I write to remember. I write to remain honest. I write to leave a bread crumb trail for my daughter. I write to relax. Trying to impress my better half, I write